Posts

चोपता, तुंगनाथ, चन्द्रशिला ट्रैक (भाग-1)

Image
आइये आज आपको लेकर चलते है भगवान शिव के पावन धाम, पंचकेदारों में से एक केदार धाम बाबा तुंगनाथ जी की यात्रा पर। तुंगनाथ मंदिर बाबा भोले शंकर के पंच केदार में से तृतीय केदारधाम है। पंच केदार का क्रम इस प्रकार है।

1. केदारनाथ

2. मद्महेश्वर
3. तुंगनाथ
4. रुद्रनाथ
5. कल्पेश्वर


अपनी कंपनी घुमक्कड़ी एडवेंचर जिसकी शुरुआत मैंने और सुनीता शानू जी ने की तो इसके माध्यम से तुंगनाथ चंद्रशिला यात्रा का आयोजन 29 सितंबर2017को किया गया। अब प्रोफेशनल कंपनी है तो इसका पूरा टूर पैकेज बनाया गया और समय से इसको सोशल साइट पर प्रमोट किया जिससे कई यात्री घुमक्कड़ी एडवेंचर के साथ जुड़े। जिनमे नीति टंडन, सौनाक्षी, मानू, अंजली, पूनम माटोलिया, अचला शर्मा, मनोज शर्मा, मनोज कुमार, ऋषिता, दिव्या, युधिष्ठिर, गरिमा, उर्वशी, दीपिका, मंजू शर्मा, पवन चोटिया, दीपक, शिवा और विक्रम रहे । यह सब लोग अलग अलग जगह से हमारे साथ जुड़े और तुंगनाथ चंद्रशिला ट्रैक पर जाने के लिए तैयार हुए। और खास बात यह रही कि हमारे साथ दिल्ली से ही खाने बनाने का सामान और हलवाई साथ गए।




दिल्ली से वापिस दिल्ली लौटने तक सभी व्यवस्था हमारी थी। जिसका शुल्क5999/- प्रति …

मलेशियाई दोस्त ऐश और सुनीता जी के साथ दिल्ली दर्शन

Image
दिल्ली में रहने वाले लोग आखिर कहां दिल्ली घूमते है। वह तो इतने प्रदूषण से कहीं दूर किसी पहाड़ी पर जाना पसंद करते है। अपना भी यही हाल है मुझे पहाड़ बहुत पसंद है। लेकिन ऐसे में यदि मेरा कोई मित्र विदेश से आ रहा हो तो उसको दिल्ली की सांस्कृतिक धरोहर से परिचय कराना मेरा दायित्त्व बनता है।


जी हां मेरी दोस्त ऐश जो मलेशिया की नागिरक है वह काउच सर्फिंग के माध्यम से मुझसे जुड़ी थी। 19 जुलाई 2017 को उसका दिल्ली आने का कार्यक्रम बना। देर रात उसकी फ्लाइट दिल्ली। अब उससे बात पहले ही हो गई थी  यदि दिल्ली पूरी घूमना है तो सुबह 8 बजे मिल जाना शाहदरा मेट्रो स्टेशन पर, अगर देर हुई तो कई जगह रह जाएगी। अरे भाई दिल्ली कोई छोटी सी थोड़ी है जो एक दिन में पूरी घूमी जा सके।
लेकिन 20 जुलाई 2017 की सुबह हुई तो 4 बजे से ही इंद्र देवता दिल्ली पर अपनी कृपा बरसा रहे थे। जिसका सिलसिला लगभग 10 बजे के आसपास रुक गया। अब उन्होंने अपनी कृपा बरसानी रोकी तो हम घर से निकल पाये। और ठीक 11 बजे ऐश मिल गई मुझे शाहदरा मेट्रो स्टेशन पर।

वहां से हम सीधा दिल्ली गेट मेरे घर आ गए और ऐश को अपने यहां के मशहूर ब्रेड पकोड़े और बढ़िया मसाला चा…

Centre of meditation and spirituality – Almora

Image
Centre of meditation and spirituality– Almora

Almora the centre of meditation and spirituality is important place in the series of Kumaon mountain. Kumaon visit could not have been completed without visiting Almora. It is a very quiet and mesmerizing place. It is so quiet and serene that you want to get soaked in its beauty and forgets everything. Being situated  1642 metres above sea level  is the reason of  good weather all round the year.  It is a good place from tourism and religious prespective.
According to natives three things are very famous here – i.e  “MAAL”  “ BAAL”  and “ PATAL” “MAAL” is the beauty of girls means girls are very beautiful  here. “BAAL”   is the  name of sweet dish , world famous Dessert   “PATAL” is the huge rock cut out from mountains , earlier street houses are made from it Dushehra  festival  is world famous. Here competition of best effigy is organised  every  year, many groups of people participate in it and a procession is taken out in markets and t…

चटोरों का चांदनी चौक

Image
जब आप चटोरों के चांदनी चौक में आओगे, तो आप यहां के खानों को नहीं भूल पाओगे। यहां चहल-पहल भरी गलियां मिलेंगी, जो विभिन्न व्यंजनों की महक से सरोबर होती हैं। व्यंजनों के कद्रदानों के लिए करीम जैसे रेस्तरां हैं, साथ ही मांसाहारी खानों के पुराने शौकीन हैं, वे मोती महल में बटर-चिकन का लुत्फ उठा सकते हैं।
स्ट्रीट फूड
चांदनी चौक को प्रायः भारत की फूड-कैपिटल भी कहा जाता है, जो अपने स्ट्रीट फूड के लिए प्रसिद्ध है। यहां अनेक प्रकार के स्नैक्स, विशेषकर चाट, मिलते हैं।  टदि आप इनका आनंद लेना चाहते हैं तो सब-कुछ भूलकर इनके स्वाद और खुश्बुओं में खो जाएं। आप सभी यहां आएं...और मिल-जुलकर इनका आनंद उठाएं। चांदनी चौक में प्रतिदिन मेले जैसा माहौल रहता है। गलियों में हलवाई, नमकीन बेचने वालों तथा परांठे-वालों की कतार में दुकाने हैं।
बेहतर होगा कि आप परांठे वाली गली से शुरुआत करें, 1870 के दशक से,  जब यहां परांठों की दुकान खुली थी, तभी से यह स्थान चटोरों के स्थान के नाम से लोकप्रिय हो गया था। इस गली में भारत की कई नामी हस्तियां आ चुकी हैं। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पं.जवाहरलाल नेहरु और उनके परिवारजन - इंदिर…