Monday, 11 September 2017

मलेशियाई दोस्त ऐश और सुनीता जी के साथ दिल्ली दर्शन

दिल्ली में रहने वाले लोग आखिर कहां दिल्ली घूमते है। वह तो इतने प्रदूषण से कहीं दूर किसी पहाड़ी पर जाना पसंद करते है। अपना भी यही हाल है मुझे पहाड़ बहुत पसंद है। लेकिन ऐसे में यदि मेरा कोई मित्र विदेश से आ रहा हो तो उसको दिल्ली की सांस्कृतिक धरोहर से परिचय कराना मेरा दायित्त्व बनता है।


जी हां मेरी दोस्त ऐश जो मलेशिया की नागिरक है वह काउच सर्फिंग के माध्यम से मुझसे जुड़ी थी। 19 जुलाई 2017 को उसका दिल्ली आने का कार्यक्रम बना। देर रात उसकी फ्लाइट दिल्ली। अब उससे बात पहले ही हो गई थी  यदि दिल्ली पूरी घूमना है तो सुबह 8 बजे मिल जाना शाहदरा मेट्रो स्टेशन पर, अगर देर हुई तो कई जगह रह जाएगी। अरे भाई दिल्ली कोई छोटी सी थोड़ी है जो एक दिन में पूरी घूमी जा सके।

लेकिन 20 जुलाई 2017 की सुबह हुई तो 4 बजे से ही इंद्र देवता दिल्ली पर अपनी कृपा बरसा रहे थे। जिसका सिलसिला लगभग 10 बजे के आसपास रुक गया। अब उन्होंने अपनी कृपा बरसानी रोकी तो हम घर से निकल पाये। और ठीक 11 बजे ऐश मिल गई मुझे शाहदरा मेट्रो स्टेशन पर।

मैं और ऐश मेट्रो स्टेशन पर

वहां से हम सीधा दिल्ली गेट मेरे घर आ गए और ऐश को अपने यहां के मशहूर ब्रेड पकोड़े और बढ़िया मसाला चाय का नाश्ता कराया। इसके बाद समय ना गंवाते हुए मैंने अपना कैमरा उठाया और घर से निकल पड़े। पुरानी दिल्ली की पेंचीदा गलियों में चहलकदमी करते हुए सबसे पहले हम पहुंचे जामा मस्जिद। जहां जाकर ऐश की जुबान से निकला Wao This is so Beautiful खैर फिर मैंने उसको जामा मस्जिद का इतिहास बताया लेकिन आपको यहां नहीं बताऊंगा।

जामा मस्जिद

ऐश

इसके बाद फिर वही पुरानी दिल्ली की गलियों से होते हुए हम पहुंच गए लाल किला। यहां हमे मिली सुनीता जी उनको मैने पहले ही फोन कर दिया था। अब हम दो से तीन हो गए, मैं सुनीता जी और ऐश। फिर लाल किले के तीन टिकट ली गई। उसके बाद सुनीता जी और ऐश तो महिला लाइन से जल्दी से निकल गए। लेकिन पुरूषों की पंक्ति थोड़ी लंबी थी जिस कारण से मुझे लाल किले में प्रवेश करने में समय लग गया।

ऐश

घुसते ही शानदार बाजार था जिसमे हस्तशिल्प कला का अद्धभुत नमूना देखने को मिला। और एक बाद एक सभी दरबारों महलों को हमने अपनी नज़रों से निहार लिया। ऐश के चहरे से लग रहा था कि बहुत खुश है। लेकिन लाल किला पूरी तरह से देखने मे हमे 2:30 बज गए। जिस कारण से हमने कई जगह जाना कैंसिल किया।

हम तीनों मैं सुनीता जी और ऐश

ऐश और सुनीता जी

सुनीता जी

समय ना गंवाते हुए इसके बाद हम बंगला साहिब जाने के लिए लाल किला मेट्रो स्टेशन पर आ गए वहां से सीधा पटेल चौक पहुंचे। पटेल चौक से 10 रू सवारी में बंगाल साहिब का ऑटो किया। जिसमें सबसे पहले गुरुद्वारे के दर्शन किये उसके बाद लंगर चखा। ऐश गुरुद्वारे की काफी तारीफ करने लगी। उसको यहाँ आना बहुत अच्छा लगा।

बंगला साहिब गुरुद्वारा

हम तीनों

ओह बडी गलती हो गई मैं सुनीता जी का परिचय कराना तो भूल ही गया। सुनीता जी एक वरिष्ठ व्यंग्यकार और कवियित्री है और यह चाय कि ऑक्शन बायर्स है। मतलब इनका चाय का बड़ा कारोबार सिमचा टी के नाम से है। ऐश से हुई बातचीत में पता लगा कि उसको अलग अलग तरह की चाय बेहद पसंद है। ऐश को चाय में दिलचस्पी है और सुनीता जी का चाय का व्यापार है तो ऐश के लिए सुनीता जी का चाय का शोरूम भी किसी टूरिस्ट प्लेस से कम नही था। पहुंच गए हम सेक्टर 6 आर.के पुरम सुनीता जी के चाय के शोरूम यहाँ हमे मील आदित्य जो सुनीता जी के बड़े बेटे है उन्होंने हमें वाइट टी के साथ ग्रीन टी पिलाई जिससे ऐश काफी प्रभावित हुई और उसने 2 प्रकार की चाय खरीद ली।

सुनीता जी के चाय के शोरूम पर हम तीनों व सुनीता जी का बेटा आदित्य

खैर यहां से हम शाम 5:15 पर निकले और ऑटो से पहुंच गए स्वामी नारायण अक्षरधाम मंदिर। यह जगह ऐसी है कि किसी को भी मंत्रमुग्ध कर दे ऐश तो मंदिर में प्रवेश करते ही इसकी दीवानी सी हो गई इतनी तारीफ कर रही थी कि जैसे पता नहीं क्या खा लिया हो। हाथियों की कहानी उसको बेहद पसंद आई। रात 8 बजे तक मंदिर की खूबसूरती अच्छे से निहारी। अब हम काफी थक चुके थे मंदिर से बाहर आकर कुछ देर बैठे फोटो खींची और फिर वापिस आ गए।

स्वामी नारायण अक्षरधाम मंदिर

सुनीता जी

ऐश

बस इतनी सी थी ये यात्रा आगे भी आपको किसी और जगह की यात्रा पर लेकर चलूंगा तब तक आप कहीं मत जाइयेगा, ऐसे ही बने रहिये मेरे साथ।

आपका हमसफर आपका दोस्त

हितेश शर्मा


Sunday, 10 September 2017

Centre of meditation and spirituality – Almora

Centre of meditation and spirituality– Almora


Almora the centre of meditation and spirituality is important place in the series of Kumaon mountain. Kumaon visit could not have been completed without visiting Almora. It is a very quiet and mesmerizing place. It is so quiet and serene that you want to get soaked in its beauty and forgets everything. Being situated  1642 metres above sea level  is the reason of  good weather all round the year.  It is a good place from tourism and religious prespective.

According to natives three things are very famous here – i.e  “MAAL”  “ BAAL”  and “ PATAL”
“MAAL” is the beauty of girls means girls are very beautiful  here.
“BAAL”   is the  name of sweet dish , world famous Dessert  
“PATAL” is the huge rock cut out from mountains , earlier street houses are made from it
Dushehra  festival  is world famous. Here competition of best effigy is organised  every  year, many groups of people participate in it and a procession is taken out in markets and the best will be honoured.  Last year Central Home Minister Sh. Kiren  rijiju does the honour.

A view of Dussehra

Ganganath mandir-  Located at a distance of around 3 to 4 kms from Almora is novel  in itself . It has been said that daughter of Diwan joshi, King of Almora is romantically involved with the Prince of state Roti ( Ganga nath doti is the only blessed child of Nepal vaibhav chand, given boon by Lord shiva). After acquiring knowledge from his guru Gorkhnanth, he headed  to almora in disguise of seer , renouncing  kingship. Body of  Ganga nath ji is blessed with  divine clothing presented by Guru Gorakhnath  and powers by  Peeth bhai goril, because of which he remain safe from ill powers . As  Joshi diwan got to know about  Bhana ganga nath love affair,  he plan out of his murder. They execute their plan on the day of holi. He sever his head by decieving him and killed all of the three, before dying varna cursed them that, that particular part of mountain will become barren and loose all the greenery. After getting spooked from curse they place them there as God.

Temple of Gangnath Ji

Nanda Devi Mandir-  Nanda is another name of Goddess  Parvati, temple is located in a busy market of Almora and is famous among devotees . Children used to play in the temple verandha and quite a busy place in evening because of its location.

Nanda Devi Temple entry Gate

Nanda Devi Temple

Chitai golu devta mandir- Situated at a distance of 10 km from Almora also known as “god of justice” it is believed that people disappointed from everywhere come here with  wishes writtern on paper and Devta  fulfill their wishes. As you enter the temple you will notice innumerable wish letter tied to the bell. There is folklore behind it. It is belived that King jhal of katyuri clan has seven  queens . All the seven queens were childless and the king used to be very worried and restless . One day the king was on his way to hunting where he met the queen kalinka ( Quueen kalinka  was believed to be the embodiment of the goddess). King jal roy was attracted to the queen and married her 
After sometime the queen got pregnant. Looking this all the seven queens got  jealous . All the queens and midwife chalked out a conspiracy. When the Queen  Kalinka  delivered the child, they replaced the child with crushing stone. The child was put in a bamboo basket and was thrown in the river.
The floating child was caught by the fisherman. They brought him up when the child grew 8 years old, he insisted his father to move to the capital champavat. The boy asked his father to provide him a horse, his father asked him how would he go to champavat. The father took it as a joke and provide him with a wooden horse but the child was god indeed and he came to champavat on that wooden horse where at a pond all the seven queens were taking bath. The child went there to got his horse to drink water . Seeing this all the queens started laughing at him and said, “ ohh! Foolish child does the wooden horse ever drink water?” The child immediately replied  that if Queen Kalinka can deliver a crushing stone than why the wooden horse can not drink water . All the Queens got surprised hearing this. Soon this news spreaded in the whole kingdom. The hapinness return to the king and all the seven Queens were punished and the little Golu was incarnated as the King 
Since than he was treated as the god of justice. Slowly the news of his verdicts started spreading. After his leaving abode as and when any injustice was done to anybody a letter  pertaining to the grievance was hanged in his temple and a quick resolution of the grievance was  done. Therefore not only in kumau but in the whole world the diety is considered as a granter of wish.

Me at Chitai Golu Devta Temple



Jageshwar dham:-  Situated 35 kms from Almora. The ancient temples of Jageshwar dham is known for natural beauty and providing spiritual path for centuries. About 250 temples are situated in the area out of which 225 are situated at one place. It is one of the 12 Jyotilingas and the atmosphere here are peaceful  and clam 

Jageshwar Dham



Vradh jageshwar:- Situated 5 kms away from Jageshwar Dham. It is said that god is present there and here the atmosphere is  peaceful, attractive and the breeze and beautiful  landscape will not let you return.

Vradh Jageshwar Temple



Kasar devi mandir:- This temple belong to 2nd century. Swami vivekanand came here in 1890 for meditation. Apart from him many saints from the western countries came here and stayed. This temple came into light between 1960- 70 for the Hippie Revolution. The view here is wonderul and you will feel as if you have come above the hills.

Kasar Devi Temple

Sunset at Temple



Doli Dana Mandir:-  This temple is about 3-4 kms before Almora. To reach the temple. One needs to to trekking and climb 111 stairs. The place is very pleasant and here the scenes at sun rise and sunsets are wonderful. There is a big field ground near the temple where you can spend the whole day and enjoy the Army firing range, which is nearby.

Doli Dana Temple

Sunset at Temple



Swami Vivekananad and Almora:- It is said that Swami Vivekanand had a very good relations with Almora, He came here twice, stayed for many days and did Meditation. First time in 1890 during his stay he got enlightenment at Kakri Ghat under a Peepal tree. In Almora Swami ji lived as a guest of Late Sh. Badrishah ji in Khanjali Mohalla. On 11th may 1897 he addressed a public meeting in Ghansali Bazar. In his address he said “ Almora is a land of our ancestors’s dream. This the land where I have been imagining to live since my childhood. I want to stablish an Himalyan centre and I succedd in making you ubderstand that why I have selected this place for all round religious education as the principal center “
He further said that the commendable memories are associated with these hills and mountains. If the himalyas are excluded from the religious history of india, the existence will come to an end. So a centre is needed here and he hopes that he will establish it one day.
It is worth notable that the disciples of Swami Turiyanand and Swami Shivanand got established  as an institution , “ BRIGHT AND CORNER”  now it is known as Rama krishna kutir 

That is enough for today. We shall take you to some other destination. Be with us, don’t go anywhere 

Your friend 
Hitesh Sharma

Sunday, 9 October 2016

चटोरों का चांदनी चौक

जब आप चटोरों के चांदनी चौक में आओगे, तो आप यहां के खानों को नहीं भूल पाओगे। यहां चहल-पहल भरी गलियां मिलेंगी, जो विभिन्न व्यंजनों की महक से सरोबर होती हैं। व्यंजनों के कद्रदानों के लिए करीम जैसे रेस्तरां हैं, साथ ही मांसाहारी खानों के पुराने शौकीन हैं, वे मोती महल में बटर-चिकन का लुत्फ उठा सकते हैं।

स्ट्रीट फूड

चांदनी चौक को प्रायः भारत की फूड-कैपिटल भी कहा जाता है, जो अपने स्ट्रीट फूड के लिए प्रसिद्ध है। यहां अनेक प्रकार के स्नैक्स, विशेषकर चाट, मिलते हैं। 
टदि आप इनका आनंद लेना चाहते हैं तो सब-कुछ भूलकर इनके स्वाद और खुश्बुओं में खो जाएं। आप सभी यहां आएं...और मिल-जुलकर इनका आनंद उठाएं। चांदनी चौक में प्रतिदिन मेले जैसा माहौल रहता है। गलियों में हलवाई, नमकीन बेचने वालों तथा परांठे-वालों की कतार में दुकाने हैं।

बेहतर होगा कि आप परांठे वाली गली से शुरुआत करें, 1870 के दशक से,  जब यहां परांठों की दुकान खुली थी, तभी से यह स्थान चटोरों के स्थान के नाम से लोकप्रिय हो गया था। इस गली में भारत की कई नामी हस्तियां आ चुकी हैं। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पं.जवाहरलाल नेहरु और उनके परिवारजन - इंदिरा गांधी और विजयलक्ष्मी पंडित यहां आ चुके हैं तथा यहां के परांठों का स्वाद ले चुके हैं। नियमित रूप से आने वाली हस्तियों में जयप्रकाश नारायण और अटल बिहारी बाजपेयी का नाम भी शामिल है।

यद्यपि इस गली में कई दुकानें अब नहीं रही हैं, आपको अचरज होगा कि इनके मालिक मैकडॉनाल्ड की फ्रैंचाइज़ी में ज्यादा रूचि दिखा रहे हैं - अब पुराने दौर की कुछ ही दुकानें यहां रह गई हैं। संभवतः इनमें सबसे पुरानी दुकान 1872 में स्थापित, पंडित गया प्रसाद-शिव चरण की है। अन्यों में पंडित देवी दयाल (1886) और कन्हैया लाल-दुर्गा प्रसाद (1875) की दुकानें अभी मौजूद हैं। परांठों को लोहे की कड़ाही में देसी घी में फ्राई किया जाता है। इन परांठों के साथ पोदीने की चटनी, केले व इमली की चटनी, सब्जी के अचार तथा आलू की सब्जी के साथ परोसा जाता है। आधा सदी पहले यहां कुछ किस्में जैसे - आलू परांठा, गोभी परांठा और मटर परांठा, क्रमशः आलू, फूलगोभी और मटर से भरकर बनाया जाता था। इनके अलावा कई नई किस्में जैसे मसूर की दाल, मैथी, मूली, पापड़, गाजर और मिक्स परांठे शामिल हैं। इसके अलावा, कुछ महंगे परांठे भी हैं, जो पनीर, पोदीने, नींबू, मिर्ची, सूखे मेवों, काजू, किशमिश, बादाम, रबड़ी, खुर्चन केले, करेले, भिंडी तथा टमाटर के बनते हैं।




परांठे वाली गली




दिल्ली स्ट्रीट फूड का प्रमुख स्वादिष्ट व्यंजन यहां की चाट है। मूल चाट में उबले आलू के टुकड़े, करारी तली ब्रेड, दही भल्ले, छोले तथा स्वादिष्ट चाट मसाले मिले होते हैं। इस मिश्रण को मिर्च और सौंठ (सूखी अदरक और इमली की चटनी) से बनी चटनी ताजे हरा धनिया और मट्ठे की दही के साथ सजाकर परोसा जाता है। बहरहाल, इसके अलावा और भी मशहूर व्यंजन हैं, जिनमें आलू की टिक्की भी शामिल है। कुछ चाट की दुकानों जैसे - श्री बालाजी चाट भंडार (1462, चांदनी चौक; दोपहर से रात्रि 10 बजे तक) चांदनी चौक की संभवतः सबसे मशहूर और सर्वश्रेष्ठ दुकान है। हम विशेषकर चाट-पापड़ी, जिसमें कचालू की चटनी, खस्ता पापड़ी और सौंठ शामिल है, खाने के लिए आपसे आग्रह करेंगे। दूसरी मशहूर दुकान बिशन स्वरूप (1421, चांदनी चौक; प्रातः 10 बजे से रात्रि 10 बजे तक) की है, जो चांदनी चौक की बाईं लेन में है, इसका भी अपना विशेष आकर्षण, विशेष स्वाद है।
1923 से इस छोटे से स्टाल में केवल तीन आइटम : सुस्वादु आलू चाट, आलू के स्वादिष्ट कुल्ले और फ्रूट चाट बेचे जाते हैं।
आप लाला बाबू चाट भंडार (77, चांदनी चौक, मैक्डॉनाल्ड्स के निकट; प्रातः 11 बजे से रात्रि 10 बजे तक) भी जाना न भूलें। यहां स्वादिष्ट गोलगप्पों के साथ हींग वाला पाचक जलजीरा भरकर परोसा जाता है। साथ ही आलू और मटर की स्टफ कचौड़ी, गोभी मटर के समोसे, दही-भल्ले तथा मटर-पनीर की टिक्की यहां ज्यादा बिकती है। फ्रूट-चाट के लिए जुगल किशोर-रामजी लाल (23, दुजाना हाउस, चावड़ी बाज़ार, चांदनी चौक; प्रातः  10.30 बजे से रात्रि 10 बजे तक) सुविख्यात है, हालांकि यहां पाव-भाजी और आलू की टिक्की भी मिलती है किंतु फ्रूट चाट अधिक बिकती है। दही-भल्ले सदैव चाट के साथ नहीं दिए जाते बल्कि इसे नटराज दही भल्ले वाले के यहां मुख्य व्यंजन के तौर पर बेचा जाता है। दही-भल्ले उड़द की दाल की पिट्ठी से डीप फ्राई करके बनाए जाते हैं और दही-सौंठ के साथ परोसे जाते हैं। नटराज चांदनी चौक के मेट्रो स्टेशन के मोड़ पर भाई मतिदास चौक के निकट स्थित है।




एक अन्य सुस्वादु व्यंजन कचौड़ी है, जो पिसी दालों और आलू की करी के साथ परोसी जाती है, जो आपके मुंह में पानी ले आएगी। जंग बहादुर कचौड़ी वाला (1104, छत्ता मदन गोपाल, चांदनी चौक; प्रातः 10.30 बजे से रात्रि 8 बजे तक) संभवतः उड़द की दाल की कचौड़ी के लिए मशहूर है जिसे आलू की चटपटी सब्जी के साथ परोसा जाता है। यह जगह वस्तुतः जाने लायक है।


जंग बहादुर कचौड़ी वाला


मिठाई में सबसे पहला नाम, रबड़ी फलूदा का आता है। इसके लिए फतेहपुरी मस्जिद के निकट ज्ञानी दी हट्टी पर पधारें। अब यह आइसक्रीम पार्लर बन गया है जहां लीची और बबलगम तक के ज़ायके मिल सकते हैं। आइसक्रीम के अलावा यहां मिल्क-शेक, फ्रूट-शेक, आइसक्रीम-शेक और सनडीज़ भी उपलब्ध हैं। यदि आप कुल्फी (ज़ायकेदार जमाया गया दूध) के शौकीन हैं तो अजमेरी गेट की तरफ जाएं, सियाराम-नन्नूमल कुल्फी वाले (629, गली लोडन, अजमेरी गेट; प्रातः 7 जे से सायं 4 बजे तक) मशहूर नाम है। यहां की कुल्फी बेहद स्वादिष्ट है। आप किसी भी ज़ायके जैसे - केसर, पिस्ता, रोज़, केवड़ा, बनाना, मैंगो और अनार से बनी ज़ायकेदार कुल्फी उपलब्ध हैं अथवा इससे भी बेहतर होगा...इनमें से प्रत्येक का आनंद उठाएं!



वापस चांदनी चौक की बात करें तो आपको दरीबां कलां में प्रवेश करते समय दाहिने ओर प्राचीन एवं प्रख्यात जलेबीवाला दिखाई देगा। आप यहां गर्मा-गर्म जलेबी का आनंद उठाएं, जलेबी - एक मिष्ठान है जो मैदे के खमीर से बनाई जाती है, इसे सेंककर, चाश्नी में डुबाकर छाना जाता है। साथ ही, चहल-पहल से भरपूर जामा मस्जिद क्षेत्र की ओर जाना भी न भूलें।




जामा मस्जिद के गेट नं. 1 के आगे उर्दू बाज़ार और अंदर जाती मटियामहल नामक सड़क पर भी विभिन्न व्यंजनों के स्टाल देखने को मिलेंगे। यहां आपको मछली, खुश्बूदार कबाब और फ्राइड चिकन की महक की नुभूते होगी। यहां आपको दुकानदार रुमाली रोटी (पतली रोटी) में लिपटे सस्ते दाम वाले कबाब और टिक्का (भैंस के मांस से बने) बेचते दिखेंगे। यहां शहर का सबसे अच्छा मटन-बर्राह बेचा जाता है। यह एक ऐसा स्थान है जहां आपको निहारी और पाया मिल सकते हैं, जो प्रातः 8.30  बजे तक बिक जाते हैं। अन्य मुख्य व्यंजनों में इस्टु, मटन कोरमा, शामी कबाब और शाहजहानी कोरमा शामिल है।

बाजार जामा मस्जिद (उर्दू बाजार)

जामा मस्जिद से चावड़ी बाजार की ओर जाएँ तो वर्षा बुल्ला चौक पर दायीं तरफ छत्ता शाहजी है। यहाँ बैठते है लोटन छोले वाले जिनके छोले इतने स्वादिस्ट इतने मिर्चीदार के आपके शरीर से पसीना छूट जायेगा लेकिन आप पूरे खाये बिना रह भी नहीं पाएंगे।

लोटन छोले वाला


चांदनी चौक स्थित घंटेवाला हलवाई 200 वर्ष से भी अधिक पुराना है। यहां मिठाइयां शुद्ध देसी घी में तैयार की जाती हैं। सोहन हलवा पापड़ी, पिस्ता समोसा और बादाम की बर्फी- धरती पर वस्तुतः जैसे स्वर्गिक आनंद की अनुभूति देते हैं। 



दिल्ली में बटर चिकन
वैसे तो मैं पूर्णतः शाकाहारी हूँ लेकिन अनेकों जगह से मिली जानकारी के आधार पर आपको बता रहा हूँ बटर चिकन की शुरुआत 1950 के दशक में मोती महल, दरिया गंज में हुआ था। यह अपने तंदूरी चिकन के लिए मशहूर है। यहां के खानसामे चिकन जूस में मक्शन और टमाटर मिक्स करके इसे रिसाइकिल करते हैं। इसे संयोग कहिए या डिजाइन, इस चटनी को तंदूरी चिकन के टुकड़ों के साथ सजाकर परोसा जाता है। इस प्रकार इस बटर चिकन का आविष्कार हुआ और पूरे विश्व में यह मन-पसंदीदा व्यंजन बन गया। बटर चिकन मक्खन और गाढ़े लाल टमाटर की ग्रेवी से बनाया जाता है। इसका स्वाद थोड़ा मीठा होता है। मुंह में घुल जाने वाला बटर चिकन तंदूरी रोटी या नान के साथ खाया जाता है।



आप कहीं मत जाइयेगा ऐसे ही बने रहिये मेरे साथ, भारत के कोने-कोने में छुपे अनमोल ख़ज़ानों में से आपको रूबरू करवाते रहेंगे।
तब तक खुश रहिये, खाते पीते रहिये और घूमते रहिये।
आपका हमसफ़र आपका दोस्त
हितेश शर्मा

Thursday, 6 October 2016

चाँदनी चौक की गलियां

वैसे तो मेरा जन्म भी पुरानी दिल्ली के ऐतिहासिक क्षेत्र दरियागंज में हुआ। इस कारण से कई मित्रों का कहना था कि हितेश भाई आप हमें पुरानी दिल्ली के बारे में कुछ बताओ। बड़े चर्चे सुने है पुरानी दिल्ली की गलियों के, चांदनी चौक की गलियों में बड़ा इतिहास छुपा है। सुना है चटोरों की जान बस्ती है चांदनी चौक में। तो मैंने कहा यार जानकारी तो आजकल इंटरनेट पर ही मिल जाती है। फिर वह कहने लगे आप वहां के रहने वाले हैं आपसे जानकारी कुछ अलग ही मिलेगी तो उनके आग्रह पर पुरानी दिल्ली की गलियों की छोटी सी जानकारी आपके सामने है।

कहते हैं पहले दिल्ली केवल 6 गेटों में थी। दिल्ली गेट, तुर्कमान गेट, अजमेरी गेट, लाहौरी गेट, मोरी गेट, और कश्मीरी गेट। इन 6 गेटों में बसी दिल्ली को ही दिल्ली कहा जाता था बाकी सब आसपास जंगल हुआ करता था। लेकिन आज तो हम जानते हैं दिल्ली कितनी बड़ी हो गई है लेकिन इन 6 गेटों वाली दिल्ली को अब पुरानी दिल्ली कहा जाने लगा इसकी शुरुआत दिल्ली गेट से होती है। कहते हैं दिल्ली गेट दिल्ली में प्रवेश करने का मुख्य द्वार हुआ करता था।

दिल्ली गेट

बाद में मुगलों द्वारा फिरोज शाह कोटला व खूनी दरवाजे का निर्माण करवाया गया। फिरोज शाह कोटला ऐसी जगह है जो हमारे देश के क्रांतिकारियों का केंद्र भी रही है। यहां किले के अवशेष और घूमने लायक मनमोहक बगीचा है।

फ़िरोज़शाह कोटला




खूनी दरवाजा

यहां से थोड़ा आगे बढ़ते हैं तो हम राजघाट पहुंच जाते हैं जहां गांधी जी की समाधि है। फिर वापिस बाजार दिल्ली गेट से होते हुए हम पहुंचे हैं तिराहा बहरम खान इससे आगे बढ़ते हुए हम पहुंचते हैं चितली कबर, सस्ते कपड़े आदि लेने के लिए यह बाजार मशहूर है आप यहां रात के 2:30  3:00 बजे भी चहल-पहल देख सकते हैं। यहां से नजर उठा कर देखो तो सामने जामा मस्जिद नजर आती है।
राजघाट, गांधी समाधि

जामा मस्जिद



जामा मस्जिद से बांयी ओर चले तो हम पहुंचते हैं चावड़ी बाजार की गलियों में। यह संकरी गलियां काफी व्यस्त रहती है और यहाँ सैनेट्री का सामना थोक में मिलता है। यहां से सीधे चले जाओ तो चावड़ी बाजार मेट्रो स्टेशन आ जाता है और बांयी और मुङो तो हम नई सड़क पहुंच जाते हैं। कहते हैं नई सड़क कागज की एशिया की सबसे बड़ी मार्केट मानी जाती है। यहां से सीधा चले तो सामने दिल्ली की शान टाउन हॉल दिखाई पड़ता है।

चावड़ी बाजार की गलियां

टाउन हॉल


अब हम चांदनी चौक में मैं प्रवेश कर चुके हैं। यहाँ सेंकडो गलियां है। जिनका नाम जिन्होंने बैठे तो बहुत समय लगेगा लेकिन फिर भी मैं आपको कुछ नाम बताता हूं जैसे दरीबा कला जो दिल्ली का सराफा बाजार माना जाता है। यहाँ कूंचा सेठ, गली पीपल वाली, धर्मपुरा हनुमान गली, माता गली, जोगीवाड़ा, मालीवाड़ा, गली गुलियांन, दुर्गा गली, कटरा नील, गली परांठे वाली छत्ता शाहजी आदि।




तो अभी हम टाउनहाल पर खड़े है सीधे हाथ की तरफ जाएँ तो हम पहुँचते है गुरुद्वारा शीश गंज। गुरूद्वारा शीश गंज साहिब, दिल्‍ली के नौ ऐतिहासिक गुरूद्वारों में से एक है। इस गुरूद्वारे का रोचक इतिहास है। यह गुरूद्वारा, सिक्‍खों के नौवें गुरू, गुरू तेग बहादुर सिंह की स्‍मृति में बनवाया गया था। इसी जगह गुरू तेग बहादुर को मौत की सजा दी गई थी, जब उन्‍होने मुगल बादशाह औरंगजेब के इस्‍लाम धर्म को अपनाने के प्रस्‍ताव को ठुकरा दिया था और इंकार कर दिया था।
शकों बाद, गुरू तेग बहादुर के कट्टर अनुयायी बाबा बघेल सिंह ने इस जगह को ढूंढ निकाला जहां गुरू जी को मौत की सजा मिली थी, और उन्‍होने गुरू जी के सम्‍मान में एक भव्‍य गुरूद्वारे का निर्माण करवा दिया।


गुरुद्वारा, शीश गंज


गुरुद्वारे से आगे चले तो सीधे हाथ पर पड़ती है कैमरा मार्किट, साइकिल मार्किट और घडी मार्किट, बांयी हाथ पर पड़ता है भागीरथ पैलेस, यह मार्किट दवाई और बिजली के सामान की थोक मार्किट है। यहाँ सामान लेने पुरे देश से व्यापारी आते है। अब थोड़ा सा आगे और बड़े तो सीधे हाथ पर पड़ता है गौरी शंकर मंदिर। कहते है यह मंदिर 800 साल पुराना है इस मंदिर को कॉस्मिक पिलर या पूरे ब्रह्मांड का केंद्र माना जाता है। इस मंदिर को एक मराठा सैनिक आपा गंगाधर के द्वारा बनवाया गया था जो भगवान शिव का परम भक्त थे।
गौरी शंकर मंदिर नाम के अनुरूप भगवान शिव को समर्पित है और शैव के सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है। यहां एक शिवलिंग है जो चांदी से बने सांपों से घिरा हुआ है और एक लौकिक स्तंभ,ब्रह्मांड या जीवन के केंद्र का प्रतिनिधित्व करता है।

गौरी शंकर मंदिर


चांदनी चौक का व्यस्त बाजार


इसके साथ ही है जैन लाल मंदिर इसका निर्माण 1526 में हुआ था। वर्तमान में इसकी इमारत लाल पत्थरों की बनी है। इसलिए यह लाल मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यहां कई मंदिर हैं लेकिन सबसे प्रमुख मंदिर भगवान महावीर का है जो जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर थे। यहां जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की प्रतिमा भी स्थापित है। जैन धर्म के अनुयायियों के बीच यह स्थान बहुत लोकप्रिय है। यहां का शांत वातावरण लोगों का अपनी ओर खींचता है।

मुगल साम्राज्य में मंदिरों के शिखर बनाने की अनुमति नहीं थी। इसलिए इस मंदिर का कोई औपचारिक शिखर नहीं था। बाद में स्वतंत्रता प्राप्ति उपरांत इस मंदिर का पुनरोद्धार हुआ।

जैन लाल मंदिर




और यहाँ से सामने देखें तो नज़र आता है लाल किला इसके इतिहास में नहीं जाऊंगा आपको पता ही है सारा।
वापिस आयें तो टाउन हॉल से थोड़ा सा आगे बांयी हाथ पर है बल्ली मारन यह जूते, चप्पल की थोक मार्किट है यहाँ से आगे जाएँ तो नज़र आती है फतेहपुरी मस्जिद और यहाँ से सीधे चले जाओ तो खारी बावली होते हुए सादर पहुँच जाते है।



खड़ी बावली की एक दुकान

फतेहपुरी मस्जिद


लेकिन पुरानी दिल्ली का जिक्र हो और ऐतिहासिक दिल्ली के सबसे पुराने रेलवे स्टेशन का जिक्र ही न हो ऐसा हो ही नहीं सकता। फतेहपुरी चौक से सीधे जाकर भाई मति दास चौक से बांयी मुड़े तो सामने नज़र आता है पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन। और उसके सामने है दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी।


दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी
पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन

अगले भाग में जारी...
आगे के भाग में आपको बताएँगे चटोरे चांदनी चौक के बारे में तब तक आप कहीं मत जाइयेगा ऐसे ही बने रहिये मेरे साथ, भारत के कोने-कोने में छुपे अनमोल ख़ज़ानों में से आपको रूबरू करवाते रहेंगे।
तब तक खुश रहिये और घूमते रहिये।
आपका हमसफ़र आपका दोस्त
हितेश शर्मा